Kahin Karti Hogi, Woh Mera Intezaar / कही करती होगी वो मेरा इंतजार Lyrics in Hindi

कहीं करती होगी वो मेरा इंतजार
जिसकी तमन्ना में फिरता हूँ बेकरार

कहीं बैठी होगी राहों में, गुम अपनी ही बाहों में 
लिए खोई सी निगाहों में खोया खोया सा प्यार 
छाया रुकी होगी आँचल की, चुप होगी धुन पायल की 
होगी पलकों में काजल की खोई खोई बहार 

दूर जुल्फों की छाँव से, कहता हूँ ये हवाओं से
उसी बुत की अदाओं के अफ़साने हज़ार
वो जो बाहों में मचल जाती, हसरत ही निकल जाती
मेरी दुनिया बदल जाती, मिल जाता करार

अरमान है कोई पास आये, इन हाथों में वो हाथ आये
फिर ख्वाबों की घटा छाये, बरसाये खुमार
फिर उन ही दिनरातों पे, मतवाली मुलाक़ातों पे
उल्फ़त भरी बातों पे, हम होते निसार

#Biswajeet #MalaSinha #HrishikeshMukherjee

Kahin Karti Hogi, Woh Mera Intezaar Lyrics

Kahin karati hogi wo mera intajaar
Jisaki tamanna men firata hun bekaraar

Kahin baithhi hogi raahon men, gum apani hi baahon men 
Lie khoi si nigaahon men khoya khoya sa pyaar 
Chhaaya ruki hogi anchal ki, chup hogi dhun paayal ki 
Hogi palakon men kaajal ki khoi khoi bahaar 

Dur julfon ki chhaanw se, kahata hun ye hawaaon se
Usi but ki adaaon ke afsaane hajaar
Wo jo baahon men machal jaati, hasarat hi nikal jaati
Meri duniya badal jaati, mil jaata karaar

Aramaan hai koi paas aye, in haathon men wo haath aye
Fir khwaabon ki ghata chhaaye, barasaaye khumaar
Fir un hi dinaraaton pe, matawaali mulaakaaton pe
Ulft bhari baaton pe, ham hote nisaar

  

Leave a comment

Your email address will not be published.