Kal Ke Apne Na Jaane Kyon / कल के अपने न जाने क्यों हो गए आज पराए Lyrics in Hindi

कल के अपने न जाने क्यों हो गए आज पराए
रेत का सागर प्यार का सपना प्यासा ही तरसाए

प्यार ने क्या क्या रंग भरे थे, लिखी थी दो तकदीरें 
आई जो आँधी बनकर मिट गई बादल की तस्वीरें
प्यार का रंग है जाने कैसा
रंग दाग़ बन जाए 

दोष नहीं है तूफानों का माँझी ही ले डूबे 
दीवानपन बनकर रह गए मन के ये मनसूबे 
ताशों का घर काम ना आए 
बनते ही गिर जाए

#SharmilaTagore #UttamKumar #ShaktiSamnta

Kal Ke Apne Na Jaane Kyon Lyrics

Kal ke apane n jaane kyon ho ge aj paraae
Ret ka saagar pyaar ka sapana pyaasa hi tarasaae

Pyaar ne kya kya rng bhare the, likhi thi do takadiren 
Ai jo andhi banakar mit gi baadal ki taswiren
Pyaar ka rng hai jaane kaisa
Rng daag ban jaae 

Dosh nahin hai tufaanon ka maanjhi hi le dube 
Diwaanapan banakar rah ge man ke ye manasube 
Taashon ka ghar kaam na ae 
Banate hi gir jaae

  

Leave a comment

Your email address will not be published.