Kisi Baat Par Main Kisi Se Khafa Hun / किसी बात पर मैं किसी से खफा हूँ Lyrics in Hindi

किसी बात पर मैं किसी से खफ़ा हूँ 
मैं ज़िंदा हूँ पर ज़िन्दगी से खफ़ा हूँ
खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ ...

मुझे दोस्तों से शिकायत है शायद
मुझे दुश्मनों से मोहब्बत है शायद
मैं इस दोस्ती दुश्मनी से खफ़ा हूँ
खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ ...

न जाने कहाँ कब किसे देखता हूँ
मगर मैं जहाँ जब जिसे देखता हूँ
समझता है वो मैं उसी से खफ़ा  हूँ
खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ ...

न जागा हुआ हूँ, न सोया हुआ हूँ
मैं दिल के अंधेरों में खोया हूँ 
किसी चाँद की चाँदनी से खफ़ा हूँ
खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ ...

#Rakhee #AmitabhBachchan #HrishikeshMukherjee

Kisi Baat Par Main Kisi Se Khafa Hun Lyrics

Kisi baat par main kisi se khafa hun 
Main jinda hun par zindagi se khafa hun
Khafa hun, khafa hun, khafa hun ...

Mujhe doston se shikaayat hai shaayad
Mujhe dushmanon se mohabbat hai shaayad
Main is dosti dushmani se khafa hun
Khafa hun, khafa hun, khafa hun ...

N jaane kahaan kab kise dekhata hun
Magar main jahaan jab jise dekhata hun
Samajhata hai wo main usi se khafa  hun
Khafa hun, khafa hun, khafa hun ...

N jaaga hua hun, n soya hua hun
Main dil ke andheron men khoya hun 
Kisi chaand ki chaandani se khafa hun
Khafa hun, khafa hun, khafa hun ...

  

Leave a comment

Your email address will not be published.