Ae Gham-E-Yaar Bata Kaise Jiya Karte Hain / ऐ ग़म-ए-यार बता कैसे जिया करते हैं

ऐ ग़म-ए-यार बता कैसे जिया करते हैं 
जिनकी तक़दीर बिगड़ जाती है क्या करते हैं 

ऐसी एक राह पे जिससे वो न गुजरेंगे कभी 
यूँ ही बैठे हुए हम राह तका करते हैं 

हम जो थे अहल-ए-वफ़ा हमसे वफ़ा भी न हुई
दर्द-ए-दिल हम तेरा किस मुंह से गिला करते हैं 

जब नहीं तुम ही तो फिर रात के सन्नाटे में 
कौन है किसको हम आवाज़ दिया करते हैं

#JayaBhaduri #AmitabhBachchan

Ae Gham-E-Yaar Bata Kaise Jiya Karte Hain Lyrics

Ai gam-e-yaar bata kaise jiya karate hain 
Jinaki taqadir bigad jaati hai kya karate hain 

Aisi ek raah pe jisase wo n gujarenge kabhi 
Yun hi baithhe hue ham raah taka karate hain 

Ham jo the ahal-e-wafa hamase wafa bhi n hui
Dard-e-dil ham tera kis munh se gila karate hain 

Jab nahin tum hi to fir raat ke sannaate men 
Kaun hai kisako ham awaaz diya karate hain

 

Leave a comment

Your email address will not be published.