Ae Mere Humsafar / ऐ मेरे हमसफर, एक जरा इंतजार

ऐ मेरे हमसफ़र, एक ज़रा इन्तज़ार
सुन सदाएँ दे रही है, मंज़िल प्यार की

अब है जुदाई का मौसम, दो पल का मेहमाँ
कैसे ना जाएगा अंधेरा, क्यो ना थमेगा तूफ़ाँ
कैसे ना मिलेगी मंज़िल प्यार की

प्यार ने जहाँ पे रखा है, झूम के कदम एक बार
वहीं से खुला है कोई रस्ता, वहीं से गिरी है दीवार
रोके कब रुकी है, मंज़िल प्यार की

#AamirKhan #JuhiChawla
#FilmfareBestMusicDirector
#DuetSong

Ae Mere Humsafar Lyrics

Ai mere hamasafr, ek jra intazaar
Sun sadaaen de rahi hai, mnjil pyaar ki

Ab hai judaai ka mausam, do pal ka mehamaan
Kaise na jaaega andhera, kyo na thamega tufaan
Kaise na milegi mnjil pyaar ki

Pyaar ne jahaan pe rakha hai, jhum ke kadam ek baar
Wahin se khula hai koi rasta, wahin se giri hai diwaar
Roke kab ruki hai, mnjil pyaar ki

 

 

Leave a comment

Your email address will not be published.