Apni Apni Kismat Hai / अपनी अपनी किस्मत है

अपनी अपनी किस्मत है 
आबाद कोई बर्बाद कोई

एक वो है जिनके होठों पर खुशियों के तराने रहते हैं 
एक हम हैं जिनकी आँखों में अश्कों के फ़साने रहते हैं 
है शाद कोई नाशाद कोई
हाय अपनी अपनी किस्मत है

एक वो है जिनके गुलशन में हर रोज़ बहारों आती हैं 
एक हम हैं जिनकी आशाएं पग पग पे कुचली जाती हैं 
है शाद कोई नाशाद कोई
हाय अपनी अपनी किस्मत है

Apni Apni Kismat Hai Lyrics

Apani apani kismat hai 
Abaad koi barbaad koi

Ek wo hai jinake hothhon par khushiyon ke taraane rahate hain 
Ek ham hain jinaki ankhon men ashkon ke fasaane rahate hain 
Hai shaad koi naashaad koi
Haay apani apani kismat hai

Ek wo hai jinake gulashan men har roz bahaaron ati hain 
Ek ham hain jinaki ashaaen pag pag pe kuchali jaati hain 
Hai shaad koi naashaad koi
Haay apani apani kismat hai

Leave a comment

Your email address will not be published.