Bekas Ki Tabahi Ke / बेकस की तबाही के Lyrics in Hindi

बेकस की तबाही के सामान हज़ारों हैं 
दीपक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ारों हैं

बर्बाद किया हमको, लाचार किया हमको
दुःख-दर्द-जलन-आँसू, क्या-क्या न दिया हमको
भगवान् तेरे हम पर एहसान हज़ारों हैं

सूरत से तो इन्सां हैं, दुश्मन हैं मोहब्बत के
सब चोर हैं, डाकू हैं, माँ-बहनों की इज़्ज़त के
कहने को ज़माने में इन्सान हज़ारों हैं

हमदर्द नहीं मिलता फिर आए जहां भर में
मोती की तरह प्यासे, रोते हैं समन्दर में
अपना ही नहीं कोई, अन्जान हज़ारों हैं

#Nutan

Bekas Ki Tabahi Ke Lyrics

Bekas ki tabaahi ke saamaan hazaaron hain 
Dipak to akela hai, tufaan hazaaron hain

Barbaad kiya hamako, laachaar kiya hamako
Duhkh-dard-jalan-ansu, kya-kya n diya hamako
Bhagawaan tere ham par ehasaan hazaaron hain

Surat se to insaan hain, dushman hain mohabbat ke
Sab chor hain, daaku hain, maan-bahanon ki izzat ke
Kahane ko zamaane men insaan hazaaron hain

Hamadard nahin milata fir ae jahaan bhar men
Moti ki tarah pyaase, rote hain samandar men
Apana hi nahin koi, anjaan hazaaron hain

Leave a comment

Your email address will not be published.