Dil Mein Ek Lehar Si / दिल में एक लहर सी उठी है अभी Lyrics in Hindi

दिल में एक लहर सी उठी है अभी 
कोई ताज़ा हवा चली है अभी 

शोर बरपा है ख़ाना-ए-दिल में
कोई दीवार सी गिरी है अभी

कुछ तो नाज़ुक मिज़ाज हैं हम भी
और ये चोट भी नई है अभी

तुम तो यारों अभी से उठ बैठे
शहर में रात जागती है अभी

सो गये लोग उस हवेली के
एक खिड़की मगर खुली है अभी

भरी दुनिया में जी नहीं लगता
जाने किस चीज़ की कमी है अभी

तू शरीक-ए-सुख़न नहीं है तो क्या
हमसुख़न तेरी ख़ामोशी है अभी

याद के बेनिशां जज़ीरों से
तेरी आवाज़ आ रही है अभी

वक़्त अच्छा भी आएगा 'नासिर' 
ग़म न कर ज़िन्दगी पड़ी है अभी

Dil Mein Ek Lehar Si Lyrics

Dil men ek lahar si uthhi hai abhi 
Koi taaza hawa chali hai abhi 

Shor barapa hai khaana-e-dil men
Koi diwaar si giri hai abhi

Kuchh to naazuk mizaaj hain ham bhi
Aur ye chot bhi ni hai abhi

Tum to yaaron abhi se uthh baithhe
Shahar men raat jaagati hai abhi

So gaye log us haweli ke
Ek khidaki magar khuli hai abhi

Bhari duniya men ji nahin lagata
Jaane kis chiz ki kami hai abhi

Tu sharik-e-sukhan nahin hai to kya
Hamasukhan teri khaamoshi hai abhi

Yaad ke benishaan jaziron se
Teri awaaz a rahi hai abhi

Waqt achchha bhi aega 'anaasira' 
Gam n kar zindagi padi hai abhi

Leave a comment

Your email address will not be published.