Din-B-Din Wo Mere Dil Se / दिन-ब-दिन वो मेरे दिल से Lyrics in Hindi

दिन-ब-दिन वो मेरे दिल से 
क्यों दूर-दूर होने लगे
मेरे अरमां मेरे सपने 
क्योंचूर चूर होने लगे

फूलों से थी सजी सजी 
कल की वो ज़िन्दगी 
आएंगे क्या न लौट कर
गुजरे वो दिन कभी
क्या उठा धुआँ मेरे दो जहां कैसे बेनूर होने लगे 

पलकों पे है रुका-रुका 
अश्क़ों का कारवां
बरसी घटा तो झूमकर 
तृष्णा बुझी कहाँ
ज़िन्दगी तुझे ऐसे भी सितम कैसे मंजूर होने लगे

#Rakhee #SanjeevKumar

Din-B-Din Wo Mere Dil Se Lyrics

Din-b-din wo mere dil se 
Kyon dur-dur hone lage
Mere aramaan mere sapane 
Kyonchur chur hone lage

Fulon se thi saji saji 
Kal ki wo zindagi 
Aenge kya n laut kar
Gujare wo din kabhi
Kya uthha dhuan mere do jahaan kaise benur hone lage 

Palakon pe hai ruka-ruka 
Ashqon ka kaarawaan
Barasi ghata to jhumakar 
Trishna bujhi kahaan
Zindagi tujhe aise bhi sitam kaise mnjur hone lage

 

Leave a comment

Your email address will not be published.