Ghunghroo Ki Tarah / घुँघरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं Lyrics in Hindi

घुँघरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं
कभी इस पग में, कभी उस पग में
बँधता ही रहा हूँ मैं

कभी टूट गया, कभी तोड़ा गया
सौ बार मुझे फिर जोड़ा गया
यूँ ही लूट लूट के और मिट मिट के
बनता ही रहा हूँ मैं

मैं करता रहा औरों की कही
मेरी बात मेरे मन ही में रही
कभी मंदिर में, कभी महफ़िल में
सजता ही रहा हूँ मैं

अपनों में रहें या गैरों में
घुँघरू की जगह तो है पैरों में
फिर कैसा गिला, जग से जो मिला
सहता ही रहा हूँ मैं

#ShashiKapoor

Ghunghroo Ki Tarah Lyrics

Ghungharu ki tarah bajata hi raha hun main
Kabhi is pag men, kabhi us pag men
Bndhata hi raha hun main

Kabhi tut gaya, kabhi toda gaya
Sau baar mujhe fir joda gaya
Yun hi lut lut ke aur mit mit ke
Banata hi raha hun main

Main karata raha auron ki kahi
Meri baat mere man hi men rahi
Kabhi mndir men, kabhi mahafil men
Sajata hi raha hun main

Apanon men rahen ya gairon men
Ghungharu ki jagah to hai pairon men
Fir kaisa gila, jag se jo mila
Sahata hi raha hun main

Leave a comment

Your email address will not be published.