Hamari Hi Mutthi Mein Aakash Sara / हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा, जब भी खुलेगी चमकेगा तारा Lyrics in Hindi

हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा
जब भी खुलेगी चमकेगा तारा
कभी ना ढले जो, वो ही सितारा
दिशा जिस से पहचाने संसार सारा

हथेली पे रेखायें हैं सब अधूरी
किसने लिखी हैं नहीं जानना है
सुलझाने उनको न आएगा कोई
समझना हैं उनको ये अपना करम है
अपने करम से दिखाना है सबको
खुद का पनपना, उभरना है खुदको
अँधेरा मिटाए जो नन्हा शरारा, दिशा जिससे ...

हमारे पीछे कोई आए ना आए
हमें ही तो पहले पहुचना वहाँ है
जिन पर हैं चलना नई पीढ़ीयों को
उन ही रास्तों को बनाना हमें हैं
जो भी साथ आये उन्हें साथ ले ले
अगर ना कोई साथ दे तो अकेले
सुलगा के खुद को मिटा ले अँधेरा, दिशा जिससे ...

Hamari Hi Mutthi Mein Aakash Sara Lyrics

Hamaari hi muthhthhi men akaash saara
Jab bhi khulegi chamakega taara
Kabhi na dhale jo, wo hi sitaara
Disha jis se pahachaane snsaar saara

Hatheli pe rekhaayen hain sab adhuri
Kisane likhi hain nahin jaanana hai
Sulajhaane unako n aega koi
Samajhana hain unako ye apana karam hai
Apane karam se dikhaana hai sabako
Khud ka panapana, ubharana hai khudako
Andhera mitaae jo nanha sharaara, disha jisase ...

Hamaare pichhe koi ae na ae
Hamen hi to pahale pahuchana wahaan hai
Jin par hain chalana ni pidhiyon ko
Un hi raaston ko banaana hamen hain
Jo bhi saath aye unhen saath le le
Agar na koi saath de to akele
Sulaga ke khud ko mita le andhera, disha jisase ...

Leave a comment

Your email address will not be published.