Ab Koi Gulshan Na Ujade / अब कोई गुलशन न उजड़े अब वतन आज़ाद है

अब कोई गुलशन न उजड़े, अब वतन आज़ाद है 
रूह गंगा की हिमाला का बदन आज़ाद है 

खेतियाँ सोना उगाएँ, वादियाँ मोती लुटाएँ 
आजा गौतम की ज़मीं, तुलसी का बन आज़ाद है 

मन्दिरों में संख बाजे, मस्जिदों में हो अज़ाँ 
शेख़ का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है 

लूट कैसी भी हो अब इस देश मैं रहने न पाए 
आज सबके वास्ते धरती का धन आज़ाद है

Ab Koi Gulshan Na Ujade Lyrics

Ab koi gulashan n ujade, ab watan azaad hai 
Ruh gnga ki himaala ka badan azaad hai 

Khetiyaan sona ugaaen, waadiyaan moti lutaaen 
Aja gautam ki zamin, tulasi ka ban azaad hai 

Mandiron men snkh baaje, masjidon men ho azaan 
Shekh ka dharm aur din-e-barahaman azaad hai 

Lut kaisi bhi ho ab is desh main rahane n paae 
Aj sabake waaste dharati ka dhan azaad hai

Leave a comment

Your email address will not be published.