Chahe Koi Mujhe Junglee Kahe / चाहे कोई मुझे जंगली कहे Lyrics in Hindi

या..हु..  
चाहे कोई मुझे जंगली कहे 
कहने दो जी कहता रहे 
हम प्यार के तूफानों में घिरे हैं हम क्या करें 
या..हु..

मेरे सीने में भी दिल है 
हैं मेरे भी कुछ अरमां
मुझे पत्थर तो न समझो 
मैं हूँ आख़िर एक इन्सां
राह मेरी वही, जिसपे दुनिया चली 

एक मुद्दत से ये तूफां
मेरे सीने में थे बेचैन
क्या छुपाऊं, क्या छुपा है 
जब मिलते हैं नैन से नैन 
सब्र कैसे करूं, क्यों किसी से डरूं

सर्द आहें कह रही हैं 
है ये कैसी बला की आग 
सोते सोते ज़िंदगानी घबराके उठी है जाग 
मैं यहाँ से वहाँ, जैसे ये आसमां

#ShammiKapoor #SairaBanu #SubodhMukherjee

Chahe Koi Mujhe Junglee Kahe Lyrics

Ya..hu..  
Chaahe koi mujhe jngali kahe 
Kahane do ji kahata rahe 
Ham pyaar ke tufaanon men ghire hain ham kya karen 
Ya..hu..

Mere sine men bhi dil hai 
Hain mere bhi kuchh aramaan
Mujhe patthar to n samajho 
Main hun akhir ek insaan
Raah meri wahi, jisape duniya chali 

Ek muddat se ye tufaan
Mere sine men the bechain
Kya chhupaaun, kya chhupa hai 
Jab milate hain nain se nain 
Sabr kaise karun, kyon kisi se darun

Sard ahen kah rahi hain 
Hai ye kaisi bala ki ag 
Sote sote zindagaani ghabaraake uthhi hai jaag 
Main yahaan se wahaan, jaise ye asamaan

  

Leave a comment

Your email address will not be published.