Dayar-E-Dil Ki Raat Mein / दयार-ए-दिल की रात में चिराग़ सा जला गया Lyrics in Hindi

दयार-ए-दिल की रात में चिराग़ सा जला गया 
मिला नहीं तो क्या हुआ वो शक्ल तो दिखा गया 

जुदाईयों के ज़ख़्म दर्द-ए-ज़िन्दगी ने भर दिए 
तुझे भी नींद आ गई मुझे भी सब्र आ गया 

ये सुबह की सफ़ेदियां, ये दोपहर की ज़र्दियां 
अब आईने में देखता हूँ मैं कहाँ चला गया 

वो दोस्ती तो ख़ैर अब नसीब-ए-दुश्मनाँ हुई
वो छोटी छोटी रंजिशों का लुत्फ़ भी चल गया

ये किस ख़ुशी की रेत पर ग़मों को नींद आ गई 
वो लहर किस तरफ़ गई ये मैं कहाँ समा गया

Dayar-E-Dil Ki Raat Mein Lyrics

Dayaar-e-dil ki raat men chiraag sa jala gaya 
Mila nahin to kya hua wo shakl to dikha gaya 

Judaaiyon ke zakhm dard-e-zindagi ne bhar die 
Tujhe bhi nind a gi mujhe bhi sabr a gaya 

Ye subah ki safediyaan, ye dopahar ki zardiyaan 
Ab aine men dekhata hun main kahaan chala gaya 

Wo dosti to khair ab nasib-e-dushmanaan hui
Wo chhoti chhoti rnjishon ka lutf bhi chal gaya

Ye kis khushi ki ret par gamon ko nind a gi 
Wo lahar kis taraf gi ye main kahaan sama gaya

Leave a comment

Your email address will not be published.