Hazaron Khwahishein Aisi / हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले Lyrics in Hindi

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले 
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले 

मोहब्बत में नहीं हैं फ़र्क़ जीने और मरने का 
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले 

डरे क्यों मेरा क़ातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर
वो खून, जो चश्म-ए-तर से उम्र भर यूँ दम-ब-दम निकले

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन 
बहुत बेआबरू होकर तेरे कुचे से हम निकले 

हुई जिनसे तवक्को खस्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज्यादा ख़स्त-ए-तेघ-ए-सितम निकले

खुदा के वास्ते परदा ना काबे से उठा ज़ालिम 
कहीं ऐसा ना हो याँ भी वही काफ़िर सनम निकले 

कहाँ मयखाने का दरवाज़ा 'ग़ालिब' और कहाँ वाइज़ 
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले

Hazaron Khwahishein Aisi Lyrics

Hajaaron khwaahishen aisi ki har khwaahish pe dam nikale 
Bahut nikale mere aramaan lekin fir bhi kam nikale 

Mohabbat men nahin hain frk jine aur marane ka 
Usi ko dekh kar jite hain jis kaafir pe dam nikale 

Dare kyon mera kaatil kya rahega usaki gardan par
Wo khun, jo chashm-e-tar se umr bhar yun dam-b-dam nikale

Nikalana khuld se adam ka sunate aye hain lekin 
Bahut beabaru hokar tere kuche se ham nikale 

Hui jinase tawakko khastagi ki daad paane ki
Wo hamase bhi jyaada khst-e-tegh-e-sitam nikale

Khuda ke waaste parada na kaabe se uthha jaalim 
Kahin aisa na ho yaan bhi wahi kaafir sanam nikale 

Kahaan mayakhaane ka darawaaja 'agaaliba' aur kahaan waaij 
Par itana jaanate hain kal wo jaata tha ke ham nikale
Unkown Person liked this

Leave a comment

Your email address will not be published.