Aisa Kabhi Hua Nahin / ऐसा कभी हुआ नहीं, जो भी हुआ खूब हुआ

ऐसा कभी हुआ नहीं, जो भी हुआ खूब हुआ
देखते ही तुझे होश गुम हुए
होश आया तो दिल मेरा दिल न रहा

रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं सावन की घटाओं जैसी
पलकें हैं तेरी घने पेड की छांव जैसी
भोलापन और हँसी, आफ़रीं, आफ़रीं

झील सी आँखों में मस्ती के जाम लहराएँ
जब होंठ खुले तेरे सरगम बजे महके फिजाएँ
हर अदा दिलनशीं, आफ़रीं, आफ़रीं

पतली सी गर्दन में एक बल है सुराही जैसा
अंदाज़ मटकने का देखा ना किसी में ऐसा
गुलबदन नाजनीं, आफ़रीं, आफ़रीं

#RishiKapoor #PoonamDhillon

Aisa Kabhi Hua Nahin Lyrics

Aisa kabhi hua nahin, jo bhi hua khub hua
Dekhate hi tujhe hosh gum hue
Hosh aya to dil mera dil n raha

Reshami zulfen hain saawan ki ghataaon jaisi
Palaken hain teri ghane ped ki chhaanw jaisi
Bholaapan aur hnsi, afarin, afarin

Jhil si ankhon men masti ke jaam laharaaen
Jab honthh khule tere saragam baje mahake fijaaen
Har ada dilanashin, afarin, afarin

Patali si gardan men ek bal hai suraahi jaisa
Andaaz matakane ka dekha na kisi men aisa
Gulabadan naajanin, afarin, afarin

 

Leave a comment

Your email address will not be published.