Jab Kabhi Mud Ke Dekhta Hoon Main / जब कभी मुड़ के देखता हूँ मैं Lyrics in Hindi

जब कभी मुड़ के देखता हूँ मैं 
तुम भी कुछ अजनबी सी लगती हो
मैं भी कुछ अजनबी सा लगता हूँ 

साथ ही साथ, चलते चलते कहीं 
हाथ छूटे मगर, पता ही नहीं 
आँसुओं की भरी सी आँखों में 
डूबी डूबी हुई सी लगती हो
तुम बहुत अजनबी सी लगती हो

हम जहाँ थे वहाँ पे अब तो नहीं 
पास रहने का भी सबब तो नहीं 
कोई नाराज़गी नहीं है मगर 
फिर भी रूठी हुई सी लगती हो
तुम बहुत अजनबी सी लगती हो

रात उदास नज़्म लगती है 
ज़िन्दगी सिर्फ रस्म लगती है 
एक बीते हुए से रिश्ते की 
एक बीती घड़ी से लगते हो
तुम भी अब अजनबी से लगते हो

जब कभी मुड़ के देखती हूँ मैं 
तुम भी कुछ अजनबी से लगते हो
मैं भी कुछ अजनबी सी लगती हूँ 

Jab Kabhi Mud Ke Dekhta Hoon Main Lyrics

Jab kabhi mud ke dekhata hun main 
Tum bhi kuchh ajanabi si lagati ho
Main bhi kuchh ajanabi sa lagata hun 

Saath hi saath, chalate chalate kahin 
Haath chhute magar, pata hi nahin 
Ansuon ki bhari si ankhon men 
Dubi dubi hui si lagati ho
Tum bahut ajanabi si lagati ho

Ham jahaan the wahaan pe ab to nahin 
Paas rahane ka bhi sabab to nahin 
Koi naaraazagi nahin hai magar 
Fir bhi ruthhi hui si lagati ho
Tum bahut ajanabi si lagati ho

Raat udaas nazm lagati hai 
Zindagi sirf rasm lagati hai 
Ek bite hue se rishte ki 
Ek biti ghadi se lagate ho
Tum bhi ab ajanabi se lagate ho

Jab kabhi mud ke dekhati hun main 
Tum bhi kuchh ajanabi se lagate ho
Main bhi kuchh ajanabi si lagati hun 

Leave a comment

Your email address will not be published.